झोंपड़े कहते है…………

Standard

इन वीरानो को अब शहर कहते है ।
यहाँ चार दीवारों को ही घर कहते है ।

धुआँ उगलती मशीनो की सड़कें है यहाँ ,
बचपन खेलें उसे गावं की गली कहते है।

बेज़ान सी जिन्दगी जीते है शहरों में ,
गावं में हर पल को जीवन कहते है ।

रगों से भरा है ये जीवन कितना  ,
ये बेरगं गावं के झोंपड़े कहते है ।

ऊचीं इमारतों ने जूदा ज़मीं आसमां किये ,
मिलता है आसमां धरती से,उसे गावं कहते है ।

रोशनी जले शहरो में बेइन्तहा लेकिन ,
गावं में सुकून से जले उन्हे दीप कहते है ।

2 responses »

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s